Lockdown में Bihar पर बाढ़ की मार; 15 दिनों के लिए शहरी और ग्रामीण इलाकों में तय नियम

81

Fast Footer Desk || Lockdown की लपेट में आये बिहार पर बाढ़ की भी मार पढ़ गई है. तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण से बिहार उभर नही पारहा था कि बाढ़ ने स्थानीय नागरिकों की मुश्किलों में इजाफा कर दिया है.

कैसा होगा इस बार का lockdown

देश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. भारत में साढ़े नौ लाख के करीब कोरोना से संक्रमित मरीज है और बिहार में तेजी से कोविड का संक्रमण फैल रहा है. जिसको रोकने के लिए राज्य सरकार ने फिर से राज्य में लॉकडाउन लगा दिया है.

लेकिन इस बार लॉकडाउन कई मायनो में अलग होगा. बिहार में आज से यानि 16 जुलाई से अगले 15 दिनों के लिए लॉकडाउन चलेगा. लॉकडाउन के दौरान बिहार में ट्रांसपोर्ट तो पूरी तरह बंद होगी लेकिन राज्य में रेल सेवाएं बहाल रहेंगी. इस बार राज्य में शहरों और ग्रामीण इलाके में लॉकडाउन के लिए भी कुछ अलग नियम लागू हैं.

बिहार में 31 जुलाई तक चलने वाला लॉकडाउन का मुख्य असर जिला, अनुमंडल और ब्लॉक मुख्यालय में होगा. लॉकडाउन के दौरान ग्रामीण इलाकों में आवश्यक सेवओं में छूट के साथ छोटे बाजार खुले रहेंगे. राज्य में लॉकडाउन के दौरान ट्रांसपोर्ट पूरी तरह से बंद रहेगा लेकिन जरूरी सेवाओं से संबंधित ट्रांसपोर्ट पहले की तरह जारी भी रहेगा.

लॉकडाउन के दौरान मंदिरों में पुजारी के अलावा किसी अन्य व्यक्ति को प्रवेश नहीं दिया जाएगा. अभी सावन का मौसम चल रहा है और ऐसे में शिवालयों और मंदिरों में भीड़ न लगाने के सख्त निर्देश भी दिए गए हैं.

लॉकडाउन के दौरान ग्रामीण इलाकों में शहरों की अपेक्षा कुछ ज्यादा राहत रहेगी. गावों में छोटे बाजार खोले जा सकते हैं लेकिन बाज़ारों में भीड़ न लगे इसके लिए पुलिस बल को तैनात किया गया है. भीड़ बढ़ने की स्थिती में बाज़ार बंद के आदेश पहले ही दिए जा चुके

कॉमर्शियल और प्राइवेट संस्थानों को पूर्ण रूप से बंद रहने के आदेश हैं. इसके आलावा अगर सरकारी कार्यलयों की बात की जाए तो राज्य व केंद्र के आधीन सभी सरकारी कार्यालय समुचित रूप से पूरी तरह बंद रहेंगे.

अन्य सम्बंधित ख़बरें

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *